दिल्ली की अदालत की बड़ी टिप्पणी- असंतुष्टों को चुप करने के लिए नहीं लगा सकते राजद्रोह का कानून

कोर्ट ने देवी लाल बुड़दाक और स्वरूप राम को जमानत दे दी। दोनों को इसी महीने दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार किया था। कोर्ट ने कहा कि समाज में शांति और लॉ ऐंड ऑर्डर को बरकरार रखने के उद्देश्य से राजद्रोह का कानून सरकार के हाथ में एक ताकतवर औजार है लेकिन इसका इस्तेमाल असंतुष्टों को चुप करने के लिए नहीं किया जा सकता।

दिल्ली की अदालत की बड़ी टिप्पणी- असंतुष्टों को चुप करने के लिए नहीं लगा सकते राजद्रोह का कानून

न्यायाधीश ने 15 फरवरी को दिये गए अपने आदेश में कहा, 'हालांकि, उपद्रवियों का मुंह बंद करने के बहाने असंतुष्टों को खामोश करने के लिए इसे लागू नहीं किया जा सकता। जाहिर तौर पर, कानून ऐसे किसी भी कृत्य का निषेध करता है जिसमें हिंसा के जरिए सार्वजनिक शांति को बिगाड़ने या गड़बड़ी फैलाने की प्रवृत्ति हो।'