बिहार के बहादुरगंज-अररिया और मुंगेर मिर्जाचौकी फोरलेन सड़क की मिली मंजूरी

बिहार के बहादुरगंज-अररिया और मुंगेर मिर्जाचौकी फोरलेन सड़क की मिली मंजूरी, टेंडर जारी

बिहार के बहादुरगंज-अररिया और मुंगेर मिर्जाचौकी फोरलेन सड़क की मिली मंजूरी

 मोदी सरकार ने बिहार की दो अहम अररिया-गलगलिया और मुंगेर-मिर्जाचौकी सड़कों की मंजूरी दे दी है।  103 किमी लंबी सड़क पर लगभग ढाई हजार करोड़ खर्च होंगे। दोनों सड़कों में 80 फीसदी जमीन अधिग्रहण के बाद एनएचएआई की बिहार इकाई ने इसके टेंडर के लिए केंद्र सरकार से मंजूरी मांगी थी। केंद्र सरकार ने दोनों सड़कों की मंजूरी के साथ ही टेंडर भी जारी कर दी, जिसकी आधिकारिक सूचना जल्द ही वेबसाइट पर जारी की जाएगी।

अररिया-गलगलिया का दो पैकेज में निर्माण होना है। इसके पहले पैकेज में गलगलिया से बहादुरगंज के बीच सड़क बनेगी, जो 49 किमी लंबी है। इसके निर्माण पर कुल खर्च 766 करोड़ होगा। इसका पहले ही टेंडर जारी हो चुका है। इसी सड़क के दूसरे पैकेज में बहादुरगंज से अररिया के बीच सड़क निर्माण होना है। 45 किमी लंबी इस सड़क पर 780 करोड़ 32 लाख खर्च होना है।  

अररिया -गलगलिया का लाभ :-

बिहार के सीमावर्ती जिले और सामरिक दृष्टि से महत्वपूर्ण अररिया-गलगलिया फोरलेन सड़क कुल 94 किमी लंबी है। इस सड़क के निर्माण पर 1546 करोड़ खर्च होंगे। इस फोरलेन सड़क के बनने से बिहार-नेपाल के समानांतर एक और सड़क हो जाएगी जो आपात स्थिति में एनएच 57 के एक विकल्प के रूप में काम करेगा। वहीं अररिया के अलावा सुपौल, मधुबनी, दरभंगा, मुजफ्फरपुर सहित अन्य जिलों से नेपाल और बंगाल आना-जाना और आसान हो जाएगा।