शहीद जुब्बा सहनी केंद्रीय कारा के कैदियों ने शुरू की पहल, कैदी अब रोज करेंगे प्रार्थना

ष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 151वीं जयंती के मौके पर दो अक्टूबर से इसकी विधिवत शुरुआत होगी। अभी कैदी वैष्णव जन तो तेणे कहिए जे पीर पराई जाने रे... प्रार्थना ये कर रहे हैं।

शहीद जुब्बा सहनी केंद्रीय कारा के कैदियों ने शुरू की पहल, कैदी अब रोज करेंगे प्रार्थना

भागलपुर [कौशल किशोर मिश्र]। शहीद जुब्बा सहनी केंद्रीय कारा में बंद कैदियों में बदलाव का असर दिखने लगा है। अबतक कैदी सुबह-शाम योग साधना किया करते थे। अब शाम को रोज सजायाफ्ता कैदी प्रार्थना सभा भी लगाएंगे। कैदियों की इस प्रार्थना सभा की परिकल्पना जेल प्रशासन के सहयोग से साकार होने वाली है।

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 151वीं जयंती के मौके पर दो अक्टूबर से इसकी विधिवत शुरुआत होगी। करण मंडल, बसंत सिंह, प्रेम प्रकाश यादव, डब्लू मंडल, वासुकी, मनोरंजन आदि कैदियों ने शाम में प्रार्थना की शुरुआत कर रखी है। अपने वार्ड में पिछले एक सप्ताह से 'वैष्णव जन तो तेणे कहिए जे पीर पराई जाने रे...' प्रार्थना ये कर रहे हैं। इन्हें देखकर वार्ड के अन्य कैदी भी प्रार्थना में शामिल होने लगे। जेल अधीक्षक संजय कुमार चौधरी व उपाधीक्षक राकेश कुमार सिंह ने इस पहल में अन्य कैदियों को शामिल करने की बात सोची। अब हर शाम को कैदी शारीरिक दूरी बनाकर हॉल में जुटेंगे। छह चयनित सजायाफ्ता कैदी प्रार्थना की पंक्तियों का उच्चारण करेंगे। इसे शेष कैदी दोहराएंगे।

प्रार्थना सभा के माध्यम से कैदियों के आचरण में भी बदलाव आएगा। उम्मीद है कि जेल से बाहर निकलकर ये समाज की मुख्यधारा से जुड़ेंगे। प्रार्थना सभा की शुरुआत उन्हें नेकी के रास्ते पर ले जाएगी। - संजय कुमार चौधरी, अधीक्षक, शहीद जुब्बा सहनी केंद्रीय कारा, भागलपुर